अजब गज़ब दुनिया की हिंदी खबरे

Unbelievable Facts in Hindi, 20 अविश्वसनीय और आश्चर्यजनक तथ्य #9

0 5

मेरे दोस्तों, मैं फिर आ गया हूँ मिक्स सीरीज़ की ९ वीं पोस्ट लेकर. आज मैं आपको हर रोज की तरह ऐसे Unbelievable facts बताऊंगा जो आपको एक बार पढ़ने से ही जुबानी याद हो जाएगे.

1. हर रोज दुनिया के करीब 5 लाख घंटे Captcha code लिखने में खराब हो रहे है. (मतलब एक आदमी की पूरी 60 साल की जिंदगी)

2. शादी करने वाले जोड़े अपने तीसरे साल में सबसे ज्यादा खुश होते है.

3. मेढ़क हमारी तरह पानी नही पीते, बल्कि त्वचा के द्वारा सोख लेते है.

4. ADIDAS और PUMA बनाने वाले भाई-भाई थे.

5. धरती पर इतने कीड़े है कि अगर बाँटने लगे तो हर इंसान के हिस्से में 17 करोड़ आए.

6. हर 3 में से 1 जुराब जो आप पहनते है वो, चीन के datang जिले की zhuji जगह पर बनती है. इसे socks city के नाम से भी जाना जाता है.

7. रोबोट द्वारा हत्या का पहला केस 1981 में सामने आया था.

8. WIFI से निकलने वाली रेडिएशन आदमी की स्पर्म एक्टिविटी 1/3 (एक तिहाई) तक कम करती है.

9. ज्यादातर कैसीनों में खिड़की और घड़ी नही होती. ताकि आप समय को भूल जाओ.

10. Aspirin (एक दवा) और Heroin (एक नशा) दोनों की खोज एक ही साल में एक ही आदमी न की थी. आदमी का नाम था Felix Hoffman साल था 1897.

11. बोतलों में बिकने वाला 40% पानी आरो का नही बल्कि नल का होता है.

12. मैक्डोनाल्ड का एक कर्मचारी जितना 7 महीनें में कमाता है उतना उसका CEO एक घंटे में कमाता है.

13. नार्थ कोरिया का फाउंडर Kim II-Sung, उसी दिन पैदा हुआ था जिस दिन टाइटेनिक जहाज डूबा था.

14. एक आदमी, जिसका नाम था Charles Osborne. इसकी लगातार 68 साल तक हिचकी नही थमीं.

15. फ्रेंच लेखक Michel Thaler ने एक 233 पेज का नोवेल लिखा जिसमें एक भी verb नही थी. (जैसे: read, playetc.)

16. दुनिया के टाॅप 85 लोगों के पास दुनिया के 3.5 अरब लोगों से ज्यादा पैसे है. मतलब आधी जनसंख्या के बराबर.

17. केवल 2% महिला ही खुद को सुंदर बताती है मतलब खुद की ही तारीफ करती है. बाकी तो उनकों दूसरो से तारीफ की उम्मीद ज्यादा रहती है.

18. ‘OMG’ शब्द सबसे पहले 1917 में British admiral द्वारा Winston Churchill (यूके का पुराना प्रधानमंत्री) को भेजे गए एक लैटर में प्रयोग किया गया था.

19. हर रोज सोने की अंगूठी पहनने से एक साल में करीब 6 मिलीग्राम सोना घिस जाता है.

20. 2013 के अंत तक भारत की अदालतों में 83 लाख मामले अटके पड़े थे. अगर कोई नया मुकदमा ना भी हो तो भी इन्हे सुलझाने में साढ़े 6 साल लग जाएगे.


मिलते है एक ऐसी ही unbelievable facts की पोस्ट के साथ, तब तक के लिए Shubh rag का नमस्ते.

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.