Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारत ऐसा देश है जहां हर गली, हर नुक्कड़, हर चौराहे से निकलती हैं अनगिनत कहानियां. लेकिन उन्हें अपनी भाषा, यानि हिंदी में आप तक पहुंचाने के लिए आ गया है गज़ब अड्डा. अनोखी कहानियां, इंडियन और इंटरनेशनल वायरल कंटेंट, ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स, न्यूज़, हंसी-मज़ाक, वीडियोस, और बहुत कुछ आपको मिलेगा ग़ज़ब अड्डा में. तो हर दिन जानिए कुछ नया, कुछ अलग, ग़ज़ब अड्डा के ज़रिये. आइये, पढ़िए, शेयर कीजिये और हमारे साथ बनाइये ग़ज़बपोस्ट को इंडिया की सबसे ग़ज़ब हिंदी वेबसाइट.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

अनोखी दुनिया की ये अनोखी बातें,क्या आप जानते हैं!

0 156

ब्रह्माण्ड में पृथ्वी  सबसे सुंदर और अनोखा ग्रह माना जाता है.ये एक मात्र ग्रह है, जहाँ जल, जीवन, जन्म और प्राकृतिक चीजें मौजूद है.लेकिन क्या आपने सोचा है कि इसी पृथ्वी पर कुछ ऐसी चीजें हैं, जिनसे हम अनजान है.

आइए जानते हैं इन अनोखी दुनिया के बारे में.

अंतरिक्ष की बाते. 

अंतरिक्ष की दुनिया भी एक अनोखी दुनिया है.

सूर्य का व्यास  पृथ्वी से लगभग 109 गुना अधिक है. सूर्य का आकार एक संतरे  के बराबर है. पृथ्वी का आकार  धूल के कण सामान होगा. सूर्य भी आसमान का एक  तारा ही है, जो पृथ्वी से  8 मि. 18 प्रकाश सेकेंड दूरी पर है. सूर्य पृथ्वी के ज्यादा नजदीक होने से अन्य तारों से  ज्यादा प्रकाशमान और शक्तिशाली दिखता है.

पृथ्वी से तारों तक  की दुरी को  सामान्य  किलोमीटर या इकाइयों में बता पाना संभव नहीं. इसलिए इसका मापन  विशेष प्रकार के  पैमाने से किया जाता है, जिसका नाम प्रकाश वर्ष रखा गया है. प्रकाश की किरणें एक  वर्ष में  जितनी दूरी तय करती हैं, उसे एक प्रकाश वर्ष कहते हैं.

प्रौक्सिमा-सेंटौरी तारा सूर्य के बाद दुसरे नंबर पर पृथ्वी के नजदीक है. व्याध या लुब्धक आसमान  में सबसे चमकीला तारा है. इन तारों की दूरी पारसेक से मापी जाती है. एक पारसेक में 3.26 प्रकाश वर्षों के सामान होता है.

आसमान के सब  तारे  अलग अलग रंगों के होते  हैं. लेकिन हमे एक रंग के ही दिखाई देते है. जबकि स्पेक्ट्रमदर्शी से सब भिन्न भिन्न रंग के  दिखाई देते है, जो तापमान में परिवर्तन के कारण एक रंग के दिखते है.

सूर्य  भी पीले रंग और G वर्ग का  एक तारा है.

हावर्ड वेधशाला  में वैज्ञानिकों ने उन्नीसवी सदी में तारों को वर्गीकृत किया गया और तारों को  O, B, A, F, G, K, M  नाम दिया जिसके अनुसार सूर्य को G वर्ग का तारा कहा गया.

यूरेनस ग्रह में 2 मौसम सर्दी और गर्मी रहती  हैं, और एक मौसम 42 वर्ष  तक बना  रहता है.

प्लूटो ग्रह का नाम एक 11 वर्ष की बच्ची जो इंग्लैंड से थी, उसके नाम पर 1930  में  रखा गया.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.