भारत ऐसा देश है जहां हर गली, हर नुक्कड़, हर चौराहे से निकलती हैं अनगिनत कहानियां. लेकिन उन्हें अपनी भाषा, यानि हिंदी में आप तक पहुंचाने के लिए आ गया है गज़ब अड्डा. अनोखी कहानियां, इंडियन और इंटरनेशनल वायरल कंटेंट, ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स, न्यूज़, हंसी-मज़ाक, वीडियोस, और बहुत कुछ आपको मिलेगा ग़ज़ब अड्डा में. तो हर दिन जानिए कुछ नया, कुछ अलग, ग़ज़ब अड्डा के ज़रिये. आइये, पढ़िए, शेयर कीजिये और हमारे साथ बनाइये ग़ज़बपोस्ट को इंडिया की सबसे ग़ज़ब हिंदी वेबसाइट.

क्या आप जानते है Pan Card पर लिखे नंबर का मतलब

0 105

पैन कार्ड (परमानेंट अकाउंट नंबर) एक ऐसा कार्ड है, जिस पर लिखे कोड में व्यक्ति की पूरी कुंडली छुपी होती है। लेकिन, क्या कभी आपने ये सोचा है कि आखिर परमानेंट अकाउंट नंबर, यानी पैन नंबर में ऐसा क्या छिपा है, जो आपके और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के लिए जरूरी है। चलिए हम आपको पैन कार्ड और पैन नंबर से जुड़ी पूरी जानकारी देंगे। हम यह भी बताएंगे कि पैन कार्ड पर मौजूद नंबर का क्या मतलब होता है।पैन कार्ड पर कार्डधारक का नाम और डेट ऑफ बर्थ लिखी होती है, लेकिन पैन कार्ड के नंबर में आपका सरनेम भी होता है। पैन कार्ड की पांचवी डिजिट आपके सरनेम को दर्शाती है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कार्डधारक के सरनेम को ही मानता है। इसलिए नंबर में भी उसकी जानकारी होती है। लेकिन, टैक्स डिपार्टमेंट ये बात कार्डधारक को नहीं बताता कि उसकी पूरी कुंडली इन नंबरों में छिपी है।

आइए जानते हैं पैन कार्ड में दिए गए हर नंबर का क्या होता है मतलब :

पैन कार्ड नंबर एक 10 डिजिट का खास नंबर होता है, जो लेमिनेटेड कार्ड के रूप में आता है। इसे इनकम टैक्स डिपार्टमेंट उन लोगों को इश्यू करते हैं, जो पैन कार्ड के लिए अर्जी देते हैं। पैन कार्ड बन जाने के बाद उस व्यक्ति के सारे फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन डिपार्टमेंट के पैन कार्ड से लिंक हो जाते हैं। इनमें टैक्स पेमेंट, क्रेडिट कार्ड जैसे कई फाइनेंशियल लेन-देन डिपार्टमेंट की निगरानी में रहते हैं। 

इस नंबर के पहले तीन डिजिट अंग्रेजी के लेटर्स होते हैं। यह AAA से लेकर ZZZ तक कोई भी लेटर हो सकता है। ताजा चल रही सीरीज के हिसाब से यह तय किया जाता है। यह नंबर डिपार्टमेंट अपने हिसाब से तय करता है।

पैन कार्ड नंबर का चौथा डिजिट भी अंग्रेजी का ही एक लेटर होता है। यह पैन कार्डधारी का स्टेटस बताता है।
इसमें-ये हो सकती है चौथी डिजिट..

P- एकल व्यक्ति
F- फर्म
C- कंपनी
A- AOP ( एसोसिएशन ऑफ पर्सन)
T- ट्रस्ट
H- HUF (हिन्दू अनडिवाइडिड फैमिली)
B-BOI (बॉडी ऑफ इंडिविजुअल)
L- लोकलJ- आर्टिफिशियल जुडिशियल पर्सन
G- गवर्नमेंट के लिए होता है

सरनेम के पहले अक्षर से बना पांचवा डिजिटपैन कार्ड नंबर का पांचवा डिजिट भी ऐसा ही एक अंग्रेजी का लेटर होता है। यह डिजिट पैन कार्डधारक के सरनेम का पहला अक्षर होता है। यह सिर्फ धारक पर निर्भर करता है। गौरतलब है कि इसमें सिर्फ धारक का लास्ट नेम ही देखा जाता है।इसके बाद पैन कार्ड में 4 नंबर होते हैं। यह नंबर 0001 से लेकर 9999 तक, कोई भी हो सकते हैं। आपके पैन कार्ड के ये नंबर उस सीरीज को दर्शाते हैं, जो मौजूदा समय में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में चल रही होती है। इसका आखिरी डिजिट एक अल्फाबेट चेक डिजिट होता है, जो कोई भी लेटर हो सकता है।

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.